कहानी मद्रासी पड़ोसन की भाग – I

दोस्तों बात उन दिनों की है जब मैं 15 का था हमारे सामने वाले घर मैं पहले मंजिल पर एक साउथ इंडियन फॅमिली रहने आई थी
उनकी फॅमिली मैं तीन लोग थे एक लड़की और उसके मम्मी पापा।
लड़की थी थोड़ी सांवली और थोड़ी मोटी लेकिन गज़ब की सेक्सी थी उसके चुचे शायद मेरे सर से भी बड़े थे उम्र मैं मुझसे लगभग|

एक दिन उसके मम्मी पापा जब काम पर ऑफिस गए हुए थे तो वो बालकोनी पे खड़ी हुई मुझे दिखाई दी मेरी नज़र उसपे गई तो वो पहले से मुझे देख रही थी बड़े ही सेक्सी अंदाज़ मैं हरामीपन तो खैर मेरी नज़रों मैं था ही लेकिन आदत के हिसाब से मैंने अपने आप को काबू किया और मूठ मार के गुज़ारा कर लिया

अगले दिन फिर एक बार फिर 11 बजे सुबह फिर एक बार वो बालकनी मैं खड़ी हुई मिली मैंने उससे नज़रें मिलाई और इधर उधर देखने लग गया। थोड़ी देर बाद देखा तो वो फिर से मुझे ही देख रही थी


मेरा मन हुआ उससे बात करने का तो मैंने पूछा कौन कौन है घर मैं तो थोड़ा रुक के उसने जवाब दिया के वो तीन लोग है और उसके मम्मी पापा जॉब करते है ऐसे ही धीरे धीरे बात आगे बड़ी और में उसके बारे मेंऔर वो मेरे बारे में काफी कुछ जान गई
एक दिन उसने मुझे अपने कमरे मैं बुलाया और बाते करने लगे धीरे धीरे मन कुछ सेक्सी सा होने लगा उसके भी और मेरा भी बातो बातों में उसने मेरी जांघ पे हाथ फेरा हाथ फेरते ही मेरा लंड टाइट हो गया उसकी नज़र मेरे लंड पे गई अचनाक से उसने हाथ मेरे लुंड पे लगा दिया और बोली तुम्हारा लुंड क्यों खड़ा हो गया बस उसका इतना बोलना था मैंने बोल दिया तुम्हारी चूत के अंदर जाने के लिए

बस इतना बोलते ही उसने मेरा लंड पकड़ लिया और मुझे किस करने लग गई और मैं उसके मोटे मोटे चुचे दबाने लग गया
15 मिनट्स तक किस करने के बाद उसने मेरी टी शर्ट उतर दी और पलंग पे लेटा दिया और मेरी मूठ मारने लग गई और मेरा लंड चूसने लग गई और मैं उसके चुचे चूसने लग गया फिर मैंने उसको बिस्तर पे लेटा कर उसको नंगा कर दिया और उसकी दोनों टाँगे खोल कर उसकी गुलाबी चूत चाटने लग गया उसकी चूत मैं से माल निकल ता रहा और मैं चाट ता रहा चाट चाट के मैंने उसका बुरा हाल कर दिया और वो सेक्सी सेक्सी आवाज़ें निकाल के चिल्लाने लगी और चाटो और चाटो फिर जब मेरा लंड बेकाबू होने लगा तो मैंने अपना लंड उसकी चूत मैं डाल दिया और घपाघप पेलने लग गया और हम दोनों पसीने पसीने हो गए इतने मैं लाइट चली गई और किसी के आने की आवाज़ आई
हम दोनों घबरा गए और एक दम चुप हो ………………………..

आगे की कहानी अगले हफ्ते तब तक जुड़े रहिये और आनंद लीजिये

1 thought on “कहानी मद्रासी पड़ोसन की भाग – I”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *